what is function in c in hindi(फंक्शन कितने प्रकार के होते हैं)

what is function in c in hindi(फंक्शन कितने प्रकार के होते हैं)

इस ट्यूटोरियल में, हम C प्रोग्रामिंग में फंक्शन सीखेंगे। एक फ़ंक्शन statement का एक ब्लॉक है जो एक विशिष्ट कार्य करता है। मान लीजिए कि आप एक C प्रोग्राम लिख रहे हैं और आपको उस प्रोग्राम में एक ही कार्य को एक से अधिक बार करने की आवश्यकता है। ऐसे मामले में आपके पास दो विकल्प हैं:-

1) हर बार जब आप कार्य करना चाहते हैं तो statement के एक ही सेट का उपयोग करें |
2) उस कार्य को करने के लिए एक फ़ंक्शन बनाएं, और जब भी आपको उस कार्य को करने की आवश्यकता हो तो उसे हर बार कॉल करें।

हमें C Language में फंक्शन की आवश्यकता क्यों है ?

निम्नलिखित कारणों से कार्यों का उपयोग किया जाता है –
1) कोड की पठनीयता (readability) में सुधार करने के लिए।
2) कोड की पुन: प्रयोज्यता(reusability) में सुधार करता है, उसी फ़ंक्शन का उपयोग किसी भी प्रोग्राम में स्क्रैच से समान कोड लिखने के बजाय किया जा सकता है।
3) यदि आप फ़ंक्शन का उपयोग करते हैं तो कोड को debugging करना आसान होगा, क्योंकि error का पता लगाना आसान होता है।
4) कोड के आकार को कम करता है, statement के डुप्लिकेट सेट को फ़ंक्शन कॉल द्वारा प्रतिस्थापित किया जाता है।

Function के प्रकार (type offunctions):-

1.Predefined standard library functions

Standard library functions को अंतर्निर्मित कार्यों के रूप में भी जाना जाता है। Puts(), gets(), printf(), scanf() आदि जैसे standard library functions हैं। ये फ़ंक्शन पहले से ही हेडर फाइलों में परिभाषित हैं (.h एक्सटेंशन वाली फाइलों को हेडर फाइल्स (header files) जैसे stdio.h कहा जाता है), इसलिए जब भी उनका उपयोग करने की आवश्यकता होती है तो हम उन्हें कॉल करते हैं।

For Example:-

उदाहरण के लिए, printf () फ़ंक्शन को <stdio.h> हेडर फ़ाइल में परिभाषित किया गया है, इसलिए printf () फ़ंक्शन का उपयोग करने के लिए, हमें #include <stdio.h> का उपयोग करके अपने प्रोग्राम में <stdio.h> हेडर फ़ाइल को शामिल करना होगा।

2) User Defined functions

प्रोग्राम में हम जो फंक्शन बनाते हैं, उन्हें यूजर डिफाइन्ड फंक्शन कहते हैं या दूसरे शब्दों में आप कह सकते हैं कि यूजर द्वारा बनाया गया फंक्शन यूजर डिफाइंड फंक्शन कहलाता है।

अब हम सीखेंगे कि यूजर डिफाइन्ड फंक्शन कैसे बनाते हैं और सी प्रोग्रामिंग में उनका उपयोग कैसे करते हैं|

Syntax:-

return_type function_name (argument list)
{
    Set of statements – Block of code
    }

Function Name: यह कुछ भी हो सकता है, हालांकि यह सलाह दी जाती है कि कार्यों के लिए एक सार्थक नाम होना चाहिए ताकि केवल नाम देखकर ही फ़ंक्शन के उद्देश्य को समझना आसान हो जाए।

Return Type: रिटर्न टाइप किसी भी डेटा टाइप का हो सकता है जैसे कि int, double, char, void, short आदि। चिंता न करें, नीचे दिए गए उदाहरणों के माध्यम से आप इन शर्तों को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे।

Argument list: Arguments list में उनके डेटा प्रकारों के साथ  variable नाम शामिल हैं। ये Argument फ़ंक्शन के लिए एक प्रकार के input हैं। उदाहरण के लिए – एक फ़ंक्शन जिसका उपयोग दो पूर्णांक variable जोड़ने के लिए किया जाता है, जिसमें दो पूर्णांक Argument होंगे।

Block of code: सी स्टेटमेंट का सेट, जिसे फंक्शन में कॉल किए जाने पर निष्पादित(execute) किया जाएगा।

सी में फ़ंक्शन कैसे कॉल करें?

1.Example:-

#include<stdio.h>
void message(); /*function prototype declaration*/
int main()
{
	message(); /* function call*/
	printf("sirfpadhai.in,best coding content site!\n");
	return 0;
}
void message() /*function definition*/
{
	printf("smile,and the world smiles with you...\n");
	
}

Output:-

smile,and the world smiles with you...
sirfpadhai.in,best coding content site!

--------------------------------
Process exited after 0.02663 seconds with return value 0
Press any key to continue . . .

2.Example:-

#include<stdio.h>
void itly();
void brazil();
void argentina();
int main()
{
	printf("i am in Sohail\n");
	 itly();
     brazil();
     argentina();
   return 0;
}
void itly()
{
	printf("i am in  itly\n");
}

void brazil()
{
	printf("i am in brazil\n");
	
}
void argentina()
{
	printf("i am in argentina\n");
	
}

Output:-

i am in Sohail
i am in  itly
i am in brazil
i am in argentina

--------------------------------
Process exited after 0.02511 seconds with return value 0
Press any key to continue . . .

सी में कार्यों ( regarding functions) के संबंध में ध्यान देने योग्य कुछ बिंदु:

1)सी प्रोग्राम में main() भी एक फंक्शन है।

2) function की संख्या की कोई सीमा नहीं है; A C प्रोग्राम में कितने भी  function हो सकते हैं।

3)प्रत्येक सी प्रोग्राम में कम से कम एक फ़ंक्शन होना चाहिए, जो  main() है।

4)एक फ़ंक्शन स्वयं को कॉल कर सकता है और इसे “Recursion” के रूप में जाना जाता है। 

इस पोस्ट में बस इतना ही हम अगले टॉपिक पर नेक्स्ट पोस्ट में बात करेंगे | c language में, मेने function तक इस पोस्ट में कवर कर लिया है| जल्द ही हम c language का tutorial पूरा करेंगे और c language पर प्रोग्राम केसे बनाते है| ये भी सिखायेंगे आप साथ ही साथ पुरानी पोस्ट भी पढ़ कर अपना अब्यास जारी रख सकते है| जिससे आपको c language के आने वाले टॉपिक अच्छे से समझ आयेंगे और आपको c language और भी ज्यादा आसान लगेगी | इसी तरह पढ़ते रहे और इस वेबसाइट को follow जरुर कर ले जिससे हमारी आने वाली पोस्ट आप तक सबसे पहले पहुचे |

धन्यवाद |

Previous articleswitch case statement in c programming examples,स्विच स्टेटमेंट क्या है?
Next articleWhat is pointer in C in hindi (सी में पॉइंटर क्या है?)

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here