C Language Kya Hai? | C Language क्यों और कैसे सीखे?| Features of C language in Hindi

Features of C language in Hindi

C Language Kya Hai?

कंप्यूटर रिसोर्सेज 

  1. पहली मशीन 1890 में बिकसित हुई थी |
  2. दूसरी मशीन (micro processor)1970 में  IBM(International Business Machine) के द्वारा  बिकसित हुई थी |
  3. BITS Binary Dig + its 0,1 से बना है |

C language सिखने के लिए कुछ जरुरी बुक जहा से आप c language पढ़ सकते है |

Best Books To Learn C Language

यदि आपको बुक से चीजों को पढ़ना पसंद है तो निचे मैं कुछ दो books का सुझाव देना चाहूंगा |

Yashavant Kanetkar Book – Let Us C
Greg Perry and Dean Miller – C Programming Absolute Beginner’s Guide
K. Srivastava Book – C in Depth
Brian Kernighan and Dennis Ritchie – The C Programming Language (2nd Edition)
Zed Shaw – Learn C the Hard Way
Igor Zhirkov – Low-Level Programming: C, Assembly, and Program Execution
Reema Thareja – Computer Fundamentals and Programming in C

सी लैंग्वेज क्या है? ( What is C Language in Hindi )

सी एक प्रक्रियात्मक प्रोग्रामिंग भाषा (procedural programming language)है। इसे शुरू में डेनिस रिची द्वारा वर्ष 1972 में विकसित किया गया था। इसे मुख्य रूप से एक ऑपरेटिंग सिस्टम लिखने के लिए सिस्टम प्रोग्रामिंग भाषा के रूप में विकसित किया गया था। सी भाषा की मुख्य विशेषताओं में निम्न-स्तरीय मेमोरी एक्सेस, कीवर्ड का एक सरल सेट और एक साफ शैली शामिल है, ये विशेषताएं सी भाषा को ऑपरेटिंग सिस्टम या कंपाइलर विकास जैसे सिस्टम प्रोग्रामिंग के लिए उपयुक्त बनाती हैं। खास बात ये है कि सी लैंग्वेज की मदद से हम low level प्रोग्रामिंग कर सकते है, इस Feature के कारण C programming language का उपयोग System software जैसे – Operating system, Device Driver, Compiler आदि बनाने के लिए किया जाता है |

C Language की विशेषताएं ( Features of C language in Hindi )

प्रोग्रामिंग भाषा की मुख्य विशेषताएं इसकी क्षमता और विशिष्टता का वर्णन करती हैं और वेबसाइट या सॉफ्टवेयर विकसित करने में यह कितनी फायदेमंद हो सकती है। नीचे दी गयी c language की कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं |

Simple and Efficient

C language को लागू करने की सिंटेक्स स्टाइल और चना शैली बहुत ही सरल और सीखने में आसान है। यह भाषा को आसानी से समझने योग्य बनाता है और एक प्रोग्रामर को नया एप्लिकेशन बनाने या फिर से डिज़ाइन करने में सक्षम बनाता है। इस विशेषता के कारण स्कूली छात्रों को प्रोग्रामिंग पेश करने के लिए आमतौर पर C का उपयोग एक परिचयात्मक भाषा के रूप में किया जाता है |

Mid-level programming language

हालाँकि, C का उद्देश्य low-level programming करना है। इसका उपयोग कर्नेल, ड्राइवर आदि जैसे सिस्टम अनुप्रयोगों को विकसित करने के लिए किया जाता है। यह उच्च-स्तरीय भाषा की विशेषताओं का भी समर्थन करता है। इसलिए इसे मध्य स्तर की भाषा के रूप में जाना जाता है।

Machine Independent or Portable

असेंबली भाषा के विपरीत, सी प्रोग्राम को कुछ मशीन विशिष्ट परिवर्तनों के साथ विभिन्न मशीनों पर execute किया जा सकता है। इसलिए, सी एक मशीन स्वतंत्र भाषा है।

Speed

सी भाषा का compilation और execution टाइम फ़ास्ट है क्योंकि इसमें कम अंतर्निहित कार्य होते हैं और इसलिए कम ओवरहेड होता है।

Pointer

सी पॉइंटर्स की सुविधा प्रदान करता है। हम पॉइंटर्स का उपयोग करके सीधे मेमोरी के साथ इंटरैक्ट कर सकते हैं। हम मेमोरी, स्ट्रक्चर, फंक्शन, ऐरे आदि के लिए पॉइंटर्स का उपयोग कर सकते हैं।

Memory Management

यह गतिशील स्मृति आवंटन की सुविधा का समर्थन करता है। सी भाषा में, हम किसी भी समय फ्री () फ़ंक्शन को कॉल करके allocate मेमोरी को फ्री कर सकते हैं।

Structured programming language

सी एक स्ट्रक्चर्ड प्रोग्रामिंग भाषा है इस उपयोग करके हम प्रोग्राम को भागों में तोड़ सकते हैं। इसलिए, इसे समझना और संशोधित करना आसान है। फ़ंक्शंस कोड पुन: प्रयोज्यता भी प्रदान करते हैं।

सी प्रोग्रामिंग क्यों सीखें?

सी प्रोग्रामिंग भाषा छात्रों और जो टेक्नोलॉजी से रिलेटेड फील्ड में है उनके लिए एक महान सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए जरूरी है, खासकर जब वे सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट डोमेन में काम कर रहे हों। मैं सी प्रोग्रामिंग सीखने के कुछ प्रमुख लाभों की सूची दूंगा :-

  • Structured language
  • Easy to learn
  • It can handle low-level activities
  • It produces efficient programs
  • It can be compiled on a variety of computer platforms

C Language कैसे सीखे? (How to learn C language in Hindi )

यदि आप आसानी से सी प्रोग्रामिंग का अध्ययन करना चाहते हैं तो आपको इसमें विषयों के आधार पर अपनी प्रगति को ट्रैक करना होगा। आपको यह भी पता होना चाहिए कि किसी अन्य विषय के बाद कौन सा विषय सीखना चाहिए। मैंने सभी विषयों की सूची तैयार करके सी भाषा सीखी और उस विषय पर आधारित प्रश्नों को सीखने के बाद उसका अभ्यास किया करता था।

  • स्टेप सीक्वेंस, डेटा टाइप्स, फॉर्मेट स्पेसिफायर, हेडर फाइल्स, एयरथमेटिक ऑपरेटर्स, वेरिएबल्स की घोषणा, प्रिंटफ और स्कैनफ फंक्शन जैसे बेसिक्स।
  • इन सभी विषयों को सीखने के बाद और उनका उपयोग कैसे किया जाता है, आपको मूल वाक्य रचना को जानना होगा
  • बेसिक सिंटैक्स
#include<stdio.h>

#include<conio.h>

void main()

ऊपर दिया गया कोड के बाद प्रोग्राम लिखना सुरु होता है निचे पढ़े |

  • फिर आपको conditional statements सीखने की जरूरत है जैसे कि if , else if , else.
  • नेस्टेड इफ स्टेटमेंट और स्विच केस सीखने के लिए।
  • लूप सीखना शुरू करें(for loop , while loop , do while loop ).
  • उसके बाद नेस्टेड लूपिंग के लिए जाएं।
  • उसके बाद नेस्टेड लूपिंग का उपयोग करके प्रिंटिंग पैटर्न की कुछ समस्याओं का अभ्यास करें|
  • तो आपको बबल सॉर्टिंग और सिलेक्शन सॉर्टिंग की सबसे महत्वपूर्ण अवधारणा सीखने की आवश्यकता है।
  • उसके बाद आपको ऐरे (single and double dimensions)से शुरू करना चाहिए।
  • स्ट्रिंग्स और विभिन्न (different)स्ट्रिंग फ़ंक्शंस से प्रारंभ करें।
  • इसके बाद फंक्शन्स पर जाएं।
  • उसके बाद reccursive फंक्शन्स पर जाए ।
  • फिर संरचनाओं structuresके लिए जाओ।
  • Atlast आप पॉइंटर्स के साथ समाप्त हो सकते हैं।
  • फ़ाइल हैंडलिंग (इसकी वैकल्पिक)

आपके कार्य को आसान बनाने के लिए मैं आपको उन विषयों की सूची प्रदान करने जा रहा हूँ जिनका उपयोग मैं C भाषा में महारत हासिल करने के लिए करता था अगर आपकी इंग्लिश थोड़ी अच्छी है तो, मैं आपको ये कुछ वेबसाइट बताना चाहूंगा जहाँ से आप सी लैंग्वेज सिख सकते है |

Tutorialspoint
Sirfpadhai

Javatpoint
GeeksforGeeks

ये चार कुछ अच्छे वेबसाइट है| जहाँ से आप सी लैंग्वेज सिख सकते है| मगर ये सभी वेबसाइट इंग्लिश में है| तो ऐसे में हो सकता है| जिनको इंग्लिश में प्रॉब्लम है| उनको इन वेबसाइट से सी लैंग्वेज सीखना मुश्किल हो जाये| लेकिन इनमे से sirfpadhai एक ईएसआई वेबसाइट है यहाँ आपको हिंदी और इंग्लिश दोनों में कंटेंट मिलेगा आप बड़ी आसानी से यहाँ से सिख सकते है और अपने सारे फ्रेंड्स को भी शेयर कर सकते है जिससे उनको भी पढने में हेल्प हो | निचे हम एक हेल्लो वर्ल्ड प्रोग्राम बनायेंगे |

Hello World Using C language In Hindi

बस आपको सी प्रोग्रामिंग के बारे में थोड़ा सा उत्साह देने के लिए| मैं आपको एक छोटा पारंपरिक सी प्रोग्रामिंग “हैलो वर्ल्ड” का एक program बना के दिखा रखा हूँ |

#include<stdio.h>

int main()  

{

printf(“Hello World”);

return (0):

}

Output -: Hello World

यहाँ पर आपको ज्यादा सोचने की जरुरत नहीं| अभी के लिए आप बस इतना जान लीजिये की C Language में Programs कैसे लिखे जाते है| आगे जब आप मेरे C language Tutorial In Hindi को पढ़ेंगे तब आपको इसके बारे में अच्छे से पता चल जायेगा |

C Language ke Advantage or Disadvantage

Advantage of C language

1 – C language एक simple और easy language है| जिसका use आसानी से किया जा सकता है| और C language की सबसे बड़ी खासियत यह है| की C language मे लिखा गया code बहुत ही fast होता है| यानी C language की execution time fast होती है |

2 – C एक structured programming language है। और C language मे हम functions बना सकते है| और अपने code को और भी अच्छे से manage कर सकते है |

3 – C language मे C 32 reserved के द्वारा, कुछ keyword provide की गयी है| जो ऐसे शब्द हैं, जिनका उपयोग किसी अन्य उद्देश्य के लिए नहीं किया जा सकता है| जिसके लिए वे पूर्वनिर्धारित हैं |

4 – C एक middle level language है। जो high level और low level की application बनाने मे सक्षम है| यह feature उन programmers के लिए एक advantage है| जो high level और low level की applications create करना चाहते है।

5 – Assembly language के बाद सबसे fast language C language को ही माना जाता है| इसलिए ये दूसरी programming languages से fast होती है। C language में create की गयी applications की processing बहुत ही fast होती है।

Disadvantage of C language

C language एक powerful language है| लेकिन C language में कुछ कमियाँ भी है| जो C language को सीमित बनाती है। चलिए C language के कुछ Limitations के बारे मे जानते है|

1 – C language में run time checking नहीं होती है। C language में किसी भी “variable” के “type” को “identify” करने में सक्षम नही होती है।

2 – C language मे re-usability ( inheritance ) support नहीं करती है। और “C language” में “exceptions”को “run time” में “handle” नहीं किया जा सकता है।

3 – C language object oriented programming को support नहीं करता है | जैसे – classes, objects, interfaces आदि | 

Conclusion

दोस्तों आपको ये पोस्ट केसी लगी आप कमेंट करके हमे बता सकते है | और इसी के साथ हमने c++ language tutorial start किया है |

ऐसे ही Programming Language , Coding , C Language, C++, Python Course, Java Tutorial से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए| हमारे इस वेबसाइट sirfpadhai.in को सब्सक्राइब करे जिससे हमारी साईट पर आने वाली हर पोस्ट की जानकारी आप तक सबसे पहले पहुचे |इसके साथ ही अपने दोस्तों को Whatsapp, Facebook, Instagram, Twitter पर शेयर जरूर करे |

Thank you

Previous articlemultiple inheritance in c++ example | Multiple Inheritance Example| what is multiple inheritance ?
Next articleWhat is Human Learning? | Types of Human Learning

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here